भाजपा विधायक के फर्जी फेसबुक अकाउंट से महिलाओं को अश्लील मैसेज

Spread the love

भाजपा विधायक के फर्जी फेसबुक अकाउंट से महिलाओं को अश्लील मैसेज

कोलसेवाड़ी पुलिस ने गणपत गायकवाड की शिकायत के आधार पर आरोपी को किया गिरफ्तार। फर्जी एकाउंट्स से महिलाओं को भेज रहा था फ्रेंड रिक्वेस्ट

योगेश पाण्डेय – संवाददाता

कल्याण : कल्याण पूर्व के भाजपा विधायक गणपत गायकवाड़ के नाम पर एक फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर महिलाओं को हाय, हेलो, क्या आप मुझसे मिल सकते हैं? इस तरह के अश्लील मैसेज भेजने वाले युhवक को कल्याण की कोलसेवाड़ी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इस बात का खुलासा तब हुआ ज़ब मैसेज पाने वाली महिलाओं ने खुद विधायक गणपत गायकवाड से इसके बारे में पूछताछ की।

मिली जानकारी के मुताबिक कल्याण पूर्व विधायक गणपत गायकवाड़ का एक वीडियो कुछ दिन पहले वायरल हुआ था। जिसमें उनकी आवाज की जगह कुत्ते के भौंकने की आवाज को मॉर्फ किया गया था। इस मामले में भाजपा की ओर से कोलसेवाड़ी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई गई थी। यह मामला ताजा होने पर कुछ दिन पहले फेसबुक पर विधायक गायकवाड़ के नाम से फर्जी अकाउंट बनाया गया था। इस अकाउंट के मैसेंजर से महिलाओं को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी गई थी। इसमें हाय, हैलो, गुड मॉर्निंग, क्या आप मिल सकते हैं? महिलाओं को भेजे जाते थे ऐसे मैसेज. उनमें से कुछ ने सीधे विधायक गणपत गायकवाड़ से पूछा।

महिलाओं से सीधे विधायक गायकवाड से पूछा कि क्या आपने हमें फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी है? यह सुनकर गायकवाड़ हैरान रह गए। उन्होंने कहा कि जब मैंने किसी को फ्रेंड रिक्वेस्ट ही नहीं भेजी तो यह रिक्वेस्ट कैसे गई? विधायक गायकवाड़ को एहसास हुआ कि कोई फेसबुक पर उनके नाम से फर्जी अकाउंट बनाकर इस तरह की घिनौनी हरकत कर रहा है। उन्होंने इस संबंध में सीधे ठाणे जिला शहर पुलिस आयुक्त जयजीत सिंह से शिकायत की। कमिश्नर द्वारा जांच के आदेश दिए जाने के बाद कोलसेवाड़ी पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक महेंद्र देशमुख के मार्गदर्शन में पुलिस अधिकारी उल्हास जाधव, हरिदास बोचरे ने जांच शुरू की।

इस मामले में 28 साल के युवक चंदन सुभाष शिर्सेकर को गिरफ्तार किया गया है। चंदन कोलसेवाड़ी इलाके का रहने वाला है और वह ओला कार चलाने का काम करता है। आरोपी चंदन सिर्फ 10वीं तक पढ़ा है. दिलचस्प बात यह है कि पकड़े जाने से बचने के लिए वह दूसरे लोगों के वाईफाई और हॉटस्पॉट का इस्तेमाल करता था। रविवार दोपहर जब चंदन को कल्याण अदालत में पेश किया गया, तो अदालत ने उसे आगे की जांच के लिए पुलिस हिरासत में भेजने का आदेश दिया।

चंदन ने ऐसा क्यों किया? या उसने ऐसा किसी के कहने पर किया? क्या महिलाओं को ऐसे संदेश भेजने से कोई आर्थिक लाभ होता है? ऐसे सवालों को सुलझाने के लिए पुलिस ने जांच तेज कर दिया है। इस संबंध में मीडिया से बात करते हुए विधायक गणपत गायकवाड़ ने कहा, चंदन पढ़ा-लिखा नहीं है। ऐसा उसने किसी के कहने पर किया है, इसके पीछे का मकसद केवल मुझे बदनाम करना है। विधायक गायकवाड़ ने मांग की है कि पुलिस पूरी जांच करे और इसके पीछे के मास्टरमाइंड को जल्द से जल्द गिरफ्तार करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Right Menu Icon