महाराष्ट्र की राजनीती में होने जा रहा महा-खेल, शरद पवार होंगे भाजपा में शामिल और अजित पवार बनेंगे राज्य के मुख्यमंत्री!

Spread the love

महाराष्ट्र की राजनीती में होने जा रहा महा-खेल, शरद पवार होंगे भाजपा में शामिल और अजित पवार बनेंगे राज्य के मुख्यमंत्री!

निर्दलीय विधायक रवि राणा की भविष्यवाणी, 15 – 20 दिनों में होगा नया चमत्कार। राजनितिक गालियारों में मचा हड़कंप 

योगेश पाण्डेय – संवाददाता

मुंबई – महाराष्ट्र की राजनीती में अगले 15 से 20 दिनों में बड़ा चमत्कार देखने को मिलने वाला है, ऐसा दावा निर्दलीय विधायक रवि राणा ने करते हुए राजनितिक गालियारों में ह्ड़कंप मचा दिया है। राणा ने दावा किया है कि शरद पवार भाजपा के साथ आ सकते हैं और फिर अजित पवार को राज्य के मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी दी जाएगी। उन्होने आगे कहा कि यह जरुरी है कि राकांपा सुप्रीमो देश के विकास के लिए प्रधानमंत्री मोदी का समर्थन करें। रवि राणा ने कहा कि इसके लिए मैं हर गणेश दर्शन में यही दुआ मांगी है, जहां – जहां मैं गणपति दर्शन के लिए गया। साथ ही यह भी कहा कि शरद पवार के साथ आने के बाद हम राज्य और केंद्र में एक मजबूत सरकार देख सकेंगे।

निर्दलीय विधायक रवि राणा को उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का करीबी माना जाता है। उनकी पत्नी नवनीत राणा अमरावती लोकसभा सीट से निर्दलीय सांसद भी हैं। रवि राणा ने कहा कि मैं कुछ दिनों में कई गणेश पंडालों में गया, इस दौरान मैंने गणपति बाप्पा से केवल यही प्रार्थना की कि देश के विकास के लिए शरद पवार- प्रधानमंत्री मोदी का समर्थन करें। उन्होंने कहा कि यह चमत्कार अगले 15-20 दिनों में हो जायेगा। इसके साथ ही राणा यह दावा भी कर गये कि उनके साथ आने के बाद ही अजित पवार राज्य के मुख्यमंत्री बन जायेंगे।

राणा ने यह यादव दिलाया कि राजनीती में कुछ भी संभव है, एक समय राज्य के मुख्यमंत्री रहे देवेंद्र फडणवीस आज राज्य के उपमुख्यमंत्री हैं। अजित पवार विपक्ष के नेता थे आज वे भी उपमुख्यमंत्री बन गये। एकनाथ शिंदे शहरी विकास मंत्री थे लेकिन आज मुख्यमंत्री हैं। इसलिए यह कोई बड़ी बात नहीं है कि अजित पवार राज्य के मुख्यमंत्री बन जाएं। यदि अगले 15 दिनों में शरद पवार साथ आते हैं तों अजित पवार का मुख्यमंत्री बनना तय है। गौरतलब है कि उद्धव ठाकरे सरकार के कार्यकाल के दौरान रवि राणा और उनकी सांसद पत्नी नवनीत राणा ने उद्धव ठाकरे के बांद्रा स्थित आवास के बाहर हनुमान चालीसा पढ़ने का ऐलान किया था, जिसके बाद दोनों की गिरफ़्तारी हुईं थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Right Menu Icon