देश के भाईचारे को खत्म कर केवल जातिगत राजनीती के चलते जयपुर ट्रेन कांड हुआ, मुस्लिमों को जानबूझकर निशाना बनाया गया – अबू आजमी 

देश के भाईचारे को खत्म कर केवल जातिगत राजनीती के चलते जयपुर ट्रेन कांड हुआ, मुस्लिमों को जानबूझकर निशाना बनाया गया – अबू आजमी 

विधानसभा सत्र में भाजपा पर भड़का अबू आजमी का गुस्सा, कहा सत्ता पक्ष मुझे गद्दार कहता है, लेकिन गोडसे की पूजा करता है 

योगेश पाण्डेय – संवाददाता 

मुंबई – विधानसभा के मानसून सत्र में बुधवार को औरंगजेब का स्टेटस लगाए जाने को लेकर हंगामा हुआ। भारतीय जनता पार्टी के विधायक नितेश राणे द्वारा औरंगजेब का स्टेटस बरकरार रखने का मुद्दा विधानसभा में उठाने के बाद समाजवादी पार्टी के विधायक अबू आसिम आजमी और विधायक राणे के बीच तीखी नोकझोंक देखने को मिली।

आजमी नें भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि कुछ मुस्लिम युवक औरंगजेब का स्टेटस रखते थे, इसलिए भाजपा नें तुरंत उनके खिलाफ मुकदमा दायर कर दिया। लेकिन वंचित बहुजन अघाड़ी प्रमुख प्रकाश अंबेडकर ने औरंगजेब की कब्र पर जाकर फूल चढ़ाए, साथ ही उन्होंने सरकार को चुनौती देते हुए कहा कि यदि आप में हिम्मत है तो मेरे खिलाफ कार्यवाई करके दिखाओ। फिर भी उन पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। अबू आजमी ने आरोप लगाया कि सरकार की निष्क्रियता के कारण जयपुर-मुंबई एक्सप्रेस ट्रेन में निर्दोष मुस्लिम यात्रियों की हत्या की गई। मेरा मुस्लिम समुदाय इस बर्बरता पूर्ण रवैये के चलते आक्रोषित है, लेकिन सरकार मुस्लिम समुदाय को बदनाम करने का काम कर रही है।

अबू आजमी ने विधानसभा में कहा कि कुछ मुस्लिम युवकों ने औरंगजेब का स्टेटस डाला, इसलिए आपने उनके खिलाफ मामला दर्ज किया है, यह ठीक है। लेकिन मैं इस सदन के माध्यम से पूछना चाहूंगा कि प्रकाश अंबेडर औरंगजेब की कब्र पर फूल भी चढ़ाया और सरकार को चुनौती भी दी। फिर भी उन पर कोई कार्रवाई नहीं की गई, तो क्या इस देश में दो तरह की कानूनी व्यवस्था है? ये मेरा सरकार से सवाल है। स्टेटस बनाए रखने के लिए किसी के खिलाफ मुकदमा दायर किया जाता है और कोई व्यक्ति मुकदमा दायर करने को चुनौती दे रहा है, फिर भी आप कोई कार्रवाई नहीं करते हैं।

जयपुर-मुंबई एक्सप्रेस ट्रेन में जो घटना हुई वह इसी जातीय नफरत की वजह से हुई है। सरकार समाज में नफरत फैला रही है, मुस्लिमों को किसी भी तरह से हिंदू भाइयों के बीच बदनाम करने का काम किया जा रहा है। जिसके चलते अब हालात ऐसे हैं कि कोई बुर्का पहनकर या दाढ़ी बढ़ाकर ट्रेन में सफर करने की हिम्मत भी नहीं कर पाता। उन्हें डर है कि पता नहीं उन्हें कौन और कब मार डालेगा। मेरा समुदाय अभी आक्रोश प्रकट कर रहा है, लेकिन कोई मदद करने को तैयार नहीं है। मुसलमानों के ट्रेन से यात्रा करने में कोई बुराई नहीं थी। सत्ताधारी दल के लोग मुझे गद्दार कहते हैं, लेकिन देश में नाथूराम गोडसे की तस्वीर लगी हुई है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारों का प्रचार किया जा सकता है। ये सब जानबूझकर किया जा रहा है। अबू आजमी ने यह भी आरोप लगाया कि देश का माहौल खराब किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Right Menu Icon
%d bloggers like this: