पूर्व राकांपा सांसद को उद्धव गुट से लोकसभा की उम्मेद्वारी

Spread the love

पूर्व राकांपा सांसद को उद्धव गुट से लोकसभा की उम्मेद्वारी

ईशान्य मुंबई लोकसभा के लिए संजय दीना पाटिल का नाम लगभग तय। संजय राऊत के इस सीट से चुनाव लड़ने की चर्चाओं पर लगा पूर्ण विराम 

योगेश पाण्डेय – संवाददाता

मुंबई – शिवसेना उद्धव बालासाहेब ठाकरे पार्टी ने आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। खबर है कि उत्तर पूर्व मुंबई लोकसभा क्षेत्र से ठाकरे गुट का उम्मीदवार लगभग तय हो गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक राकांपा के पूर्व सांसद और वर्तमान में ठाकरे गुट के नेता संजय दीना पाटिल के नाम पर मुहर लग गई है।

इससे पहले उत्तर पूर्व मुंबई लोकसभा क्षेत्र से ठाकरे गुट के राज्यसभा सांसद संजय राउत के नाम की चर्चा थी, लेकिन अब इस चर्चा पर विराम लग गया है। ठाकरे गुट लोकसभा क्षेत्रों की समीक्षा कर रहा है, पिछलें लोकसभा चुनाव में अविभाजित शिवसेना मुंबई की तीन सीटों पर जीत हुई थी। इनमें से दो सांसद राहुल शेवाले और गजानन कीर्तिकर एकनाथ शिंदे गुट के साथ चले गए, जबकि अरविंद सावंत ठाकरे गुट के साथ हैं। इसलिए बाकी दो सीटों पर उम्मीदवार तय करना चाहते हैं उद्धव ठाकरे। इनमें गजानन कीर्तिकर के खिलाफ उनके ही बेटे अमोल कीर्तिकर के भी मैदान में उतारे जाने की चर्चा है।

उत्तर पूर्व मुंबई लोकसभा क्षेत्र की बैठक आयोजित की गई और इसमें पूर्व पार्षद, विधायक, शाखा प्रमुख इत्यादि शामिल हुए। खबर है कि इसमें संजय दीना पाटिल के नाम पर मुहर लगी है। संजय दीना पाटिल मुंबई के एक प्रमुख राजनीतिक नेता हैं, 2004 में वह राकांपा के टिकट पर मुंबई के भांडुप विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए। फिर 2009 में शरद पवार ने उन्हें लोकसभा के लिए नामांकित किया और वह उत्तर पूर्व मुंबई लोकसभा क्षेत्र से सांसद चुने गए थे।

2014 में संजय दीना पाटिल को अपने ही निर्वाचन क्षेत्र में हार का सामना करना पड़ा, भाजपा नेता किरीट सोमैया ने उन्हें हराया था। 2019 में वह एकबार फिर लोकसभा चुनाव लड़े, लेकिन भाजपा उम्मीदवार मनोज कोटक ने उन्हें करारी शिकश्त दी। संजय पाटिल के पिता दीनानाथ बामा पाटिल 1985 में मुलुंड से विधायक रहे। उन्होंने 1978 और 1990 में कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में भांडुप से विधान सभा चुनाव भी लड़ा।

संजय दीना पाटिल की बड़ी बेटी राजोल पाटिल पिछले कुछ महीनों से युवा सेना में काम कर रही हैं, उन्हें युवासेना कार्यकारी सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया है।

फिलहाल मनोज कोटक उत्तर पूर्व मुंबई से मौजूदा भाजपा सांसद हैं। अगर भाजपा उन्हें एक और मौका देती है तो हम मनोज कोटक बनाम संजय दीना पाटिल की लड़ाई देखेंगे। दिलचस्प बात यह है कि पिछली बार भाजपा ने तत्कालीन सांसद किरीट सोमैया का टिकट काटकर कोटक को उम्मीदवार बनाया था, अब इस बार भाजपा ने पाला बदलने का फैसला किया है। यदि सोमैया को उम्मीदवार बनाया तो 2014 वाली कांटे की लड़ाई संजय दीना पाटिल बनाम किरीट सोमैया एकबार फिर देखने को मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Right Menu Icon