मुंबई यूनिवर्सिटी के सिनेट चुनाव को लेकर उद्धव गुट की युवा सेना को तगड़ा झटका 

Spread the love

मुंबई यूनिवर्सिटी के सिनेट चुनाव को लेकर उद्धव गुट की युवा सेना को तगड़ा झटका 

सिनेट चुनाव के लिए होगा नया मतदाता पंजीकरण, शिंदे गुट को राहत तो उद्धव गुट की फजीहत 

योगेश पाण्डेय – संवाददाता

मुंबई – मुंबई विश्वविद्यालय ने गुरुवार को सीनेट चुनाव के लिए नए सिरे से मतदाता पंजीकरण कराने के फैसले की घोषणा की, जिससे मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की शिवसेना पार्टी की युवा सेना के लिए रास्ता साफ हो गया।लेकिन इसे शिवसेना उद्धव ठाकरे की पार्टी युवा सेना के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है, जिसने पहले सबसे ज्यादा मतदाता पंजीकृत किए थे।

इससे पहले शिंदे गुट की युवा सेना ने सीनेट चुनाव में हिस्सा नहीं लेने का फैसला किया था, इसलिए उनके द्वारा स्नातक मतदाताओं का भी पंजीकरण नहीं कराया गया। हालाँकि अब मतदाताओं को नए सिरे से पंजीकृत करने का मुंबई विश्वविद्यालय का निर्णय उनके पक्ष में आ गया है। इसलिए सूत्रों ने बताया कि शिंदे गुट की युवा सेना मजबूत तैयारी के साथ मतदाता पंजीकरण में उतरेगी।

मुंबई विश्वविद्यालय का अधिकार क्षेत्र मुंबई शहर, मुंबई उपनगर, ठाणे, पालघर, रायगढ़, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग जिलों तक है। इसलिए संभावना है कि मुंबई यूनिवर्सिटी के सीनेट चुनाव का असर आगामी राजनीतिक घटनाओं के साथ-साथ आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनावों पर भी पड़ेगा। इसी को ध्यान में रखते हुए सभी प्रमुख राजनीतिक दलों के छात्र संगठनों ने इस चुनाव को प्रतिष्ठा का चुनाव बना दिया है। ऐसे में साफ है कि यह चुनाव और कड़ा होने वाला है।

माना जा रहा है कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और शिंदे की युवा सेना मिलकर यह चुनाव लड़ेगी, साथ ही उद्धव ठाकरे समूह की युवा सेना, मनविसे, छात्र भारती और कुछ अन्य संगठन भी इस चुनाव के मैदान में गठजोड़ के साथ उतरने की तैयारी में हैं। इसलिए इस बात के साफ संकेत हैं कि इस साल का सीनेट चुनाव गठबंधन और आघाड़ी के जरिए लड़ा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Right Menu Icon