2021 व 2022 के आंकड़े : 90 महिलाओं को छुड़ाया गया, 58 दलाल धर दबोचे गए

2021 व 2022 के आंकड़े : 90 महिलाओं को छुड़ाया गया, 58 दलाल धर दबोचे गए

अजहर शेख – संवादाता

वसई : देश के लगभग हर राज्य के किसी न किसी इलाके में वेश्‍यावृत्ति का धंधा अपने पैर पसारे हुए है।

ऐसी बहुत ही कम महिलाएं होती हैं जो अपनी मर्जी से वेश्‍यावृत्ति के धंधे में आती हैं, ज़्यादातर महिलाएं ऐसी ही होती हैं जिनके सामने या तो कोई मज़बूरी होती है या अनजाने ही इन्हें इन बदनाम बाज़ारों में बेच दिया जाता है, भारत में वेश्‍यावृत्ति का चलन आज का नहीं बल्कि सदियों से चला आ रहा है। वही वेश्‍यावृत्ति के दल-दल में फंसी 2021 व 2022 के आंकड़े से पता चलता है कि महिलाओं को छुड़ाने में मीरा -भाईंदर वसई विरार पुलिस आयुक्तालय अंतर्गत अनैतिक मानवी वाहतूक प्रतिबंधक शाखा वसई यूनिट के पी.आई संतोष चौधरी व उनकी टीम ने पुलिस महकमे का सिर गर्व से ऊचा किया है। दरअसल, इस शहर के पुलिस कमिश्नर सदानन्द दाते है, जिनके मार्गदर्शन में पूरा पुलिस महकमा कार्य करता है, इनके मार्गदर्शन में आए दिन शहर में तमाम अपराधों पर अंकुश लगता दिख रहा है। चाहे वह छोटा अपराध हो या बड़ा अपराध, लेकिन पुलिस इन अपराधों पर काबू करने की हर संभव कोशिश कर रही है, रही बात वेश्‍यावृत्ति की तो वह वसई यूनिट की टीम द्वारा की गयी कार्रवाई से पता चलता है कि इसपर हद तक काबू किया गया है। वसई यूनिट ने बताया कि वर्ष 2021 व 2022 यानी अबतक कुल 43 केस हुए है, जिनमे कुल 58 आरोपी (30 महिला दलाल व 28 पुरूष दलाल) है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि पीड़ित कुल 90 है, जिनमे 82 महिलाएं व 8 नाबालिग को इस वेश्‍यावृत्ति से छुड़ाया गया है। पुलिस अधिकारी ने कहा कि हमारे वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में वेश्‍यावृत्ति के अड्डों पर कार्रवाई की जाती है। उन्होंने कहा कि उक्त कार्रवाई फर्जी ग्राहकों के जरिए पर्दाफाश किया जाता है, ज्यादातर महिला दलाल व पुरुष दलाल खुदका आर्थिक फायदा हेतु के लिए यह कृत कार्य करवाते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

पुलिस महानगर न्यूज़पेपर के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न० 7400225100,8976727100
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: