मनपा चुनाव को लेकर भाजपा का बड़ा ऐलान, अगला महापौर भाजपा से होगा

मनपा चुनाव को लेकर भाजपा का बड़ा ऐलान, अगला महापौर भाजपा से होगा

आशीष शेलार ने साधा उद्धव ठाकरे पर निशाना, कहा 25 वर्षों से मनपा पर काबिज होने के बावजूद अपने काम के बुते क्यों नहीं मांगते वोट

योगेश पाण्डेय – संवाददाता 

मुंबई – अंधेरी पूर्व विधानसभा सीट पर उपचुनाव खत्म ही हुई है कि बृह्नमुंबई महानगरपालिका यानी मनपा चुनाव का मुद्दा गूंजने लगा है। हालांकि, अभी तक चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं हुआ है, लेकिन भारतीय जनता पार्टी ने ऐलान कर दिया है कि मनपा में अगला महापौर भाजपा से ही होगा। खास बात ही करीब तीन दशकों से मनपा पर शिवसेना का आधिपत्य है।

मुंबई भाजपा के अध्यक्ष अशीष शेलार और मुंबई नॉर्थ सेंट्रल से सांसद पूनम महाजन ने बांद्रा के गवर्नमेंट कॉलोनी ग्राउंट से अभियान की शुरुआत कर दी है। खास बात है कि यह स्थल उद्धव ठाकरे के आवास मातोश्री से कुछ ही दूरी पर मौजूद है। भाजपा नेताओं का कहना है कि यह उद्धव के लिए सीधा संदेश है। इस मौके पर आशीष शेलार ने महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर निशाना साधा और भ्रष्टाचार के आरोप लगाए।

शेलार ने उद्धव को लेकर कहा कि जिसके वोट चाहे ले लीजिए, न मराठी और न मुस्लिम आपके लिए मतदान करेगा। लेकिन हमारा सवाल है कि ऐसा समय क्यों आया कि आपको जाति और धार्मिक बातों पर वोट मांगना पड़ रहा है। शिवसेना का 25 सालों से ज्यादा समय तक मनपा पर कब्जा रहा, है न? तो आप क्यों अपने किए हुए काम के आधार पर वोट नहीं मांग रहे हैं।

जून में एकनाथ शिंदे की बगावत के बाद शिवसेना में फूट पड़ गई थी। इसके बाद राज्य से महाविकास अघाड़ी की सरकार भी गिर गई। ऐसे में भाजपा को भरोसा है कि शिंदे के नेतृत्व वाली बालासाहेबांची शिवसेना की मदद बीएमसी चुनाव में फायदेमंद हो सकती है। साल 2017 में शिवसेना ने 227 में से 84 सीटों पर जीत हासिल की थी। जबकि, भाजपा 82 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर थी।

महाराष्ट्र में शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में मराठी मुस्लिम सेवा संघ और बिल्किस बानो मामले का जिक्र भी चर्चा में है। शेलार का कहना है, ‘शिवसेना उद्धव बालासाहेब पार्टी मराठी और मुस्लिम वोट जुटाना चाहती है, लेकिन उन्होंने चतुराई से उन्हें मराठी मुस्लिम कह दिया है।आंकड़े बताते हैं कि मुंबई में मुस्लिम आबादी 21 प्रतिशत है। जबकि, मराठी भाषी 30 फीसदी हैं।

शिवसेना उद्धव बालासाहेब ठाकरे की प्रवक्ता डॉ.मनीषा कायन्डे का कहना है कि पार्टी कभी भी मुसलमानों के खिलाफ नहीं रही। उन्होंने कहा अगर आप बालासाहेब ठाकरे के पुराने भाषण देखेंगे, तो पाएंगे कि वह मुसलमानों नफरत नहीं करते थे। अगर आरएसएस प्रमुख मस्जिद जा सकते हैं और मुसलमानों को लुभा सकते हैं, तो हम क्यों नहीं कर सकते?

हालांकि वह भी शिवसेना में फूट के बाद बीएमसी चुनाव को कठिन काम बताती हैं। इधर सितंबर में मुंबई दौरे पर आए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह भी लक्ष्य तय कर चुके हैं। उन्होंने बीएमसी में भाजपा के लिए 150 सीटों का टारगेट बनाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

पुलिस महानगर न्यूज़पेपर के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न० 7400225100,8976727100
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: