विपक्ष की आलोचनाओं से घबराये मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री से लगायी गुहार

विपक्ष की आलोचनाओं से घबराये मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री से लगायी गुहार

फॉक्सकॉन प्रोजेक्ट के स्थानांतरण से आलोचनाओं में घिरी शिंदे – फडणवीस सरकार

योगेश पाण्डेय – संवाददाता 

मुंबई : महाराष्ट्र के लिए लाभदायक परियोजना के गुजरात में स्थानतरित किये जाने के चलते आलोचनाओं की मार झेल रहे राज्य के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने भी आखिरकार अब यह स्वीकार कर लिया है की यह महाराष्ट्र और महाराष्ट्र की जनता के साथ वास्तव में धोखा हुआ है। वेदांत समूह और ताइवान की कंपनी फॉक्सकॉन के बीच एक 60:40 के फार्मूले पर संयुक्त उद्यम, एक अर्ध-कंडक्टर और महाराष्ट्र के लिए महत्वपूर्ण प्रदर्शन निर्माण परियोजना को महाराष्ट्र से गुजरात में स्थानांतरित कर दिया गया है। महाराष्ट्र के पुणे के पास तलेगांव में स्थापित किया जाने वाला प्रोजेक्ट अब गुजरात में स्थानांतरित हो गया है। इस मामले को लेकर शिंदे-फडणवीस सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई है। फॉक्सकॉन परियोजनाओं के राज्य से बाहर चले जाने के चलते महाराष्ट्र में 1.54 लाख करोड़ रुपये का निवेश और लगभग डेढ़ लाख नौकरियों का नुकसान हुआ है। मामले की गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात कर ‘वेदांत’ ग्रुप और फॉक्सकॉन प्रोजेक्ट पर चर्चा की। साथ ही महाराष्ट्र को भविष्य में बड़े उद्योगों और परियोजनाओं में केंद्र सरकार के सहयोग की जरूरत होगी, मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध करते हुए कहा।

फॉक्सकॉन-वेदांता की सेमीकंडक्टर निर्माण परियोजना महाराष्ट्र से गुजरात चली गई। इस प्रोजेक्ट का कुल निवेश 1 लाख 58 हजार करोड़ रुपए है। यह प्रोजेक्ट पुणे के पास तलेगांव में होना था। रोजगार सृजन की विशाल संभावना वाली परियोजना महाराष्ट्र से कैसे चली गई? महाविकास अघाड़ी के नेता यह सवाल पूछकर शिंदे-फडणवीस सरकार को घेर रहे हैं, क्या राज्य सरकार को इस बात की कोई जानकारी नहीं थी कि यह परियोजना गुजरात में भेजी जा रही है? सत्ता परिवर्तन के तुरंत बाद 2 महीने के भीतर परियोजना गुजरात में कैसे चली गई? ऐसा सवाल उठाकर मवीआ नेताओं ने सरकार की भूमिका पर संदेह जताया है। इसी पृष्ठभूमि पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है।

उधर, इस फोन कॉल पर हुई बातचीत में नरेंद्र मोदी ने राज्य के मुख्यमंत्री को क्या आश्वासन दिया, यह अभी तक छुपा हुआ है। हालांकि एकनाथ शिंदे का पक्ष सूत्रों के हवाले से सामने आया है, लेकिन यह बात सामने नहीं आई है कि प्रधानमंत्री मोदी ने औद्योगिक परियोजनाओं को लेकर मुख्यमंत्री को को क्या आश्वासन दिया।

महाराष्ट्र में आने वाला प्रोजेक्ट गुजरात कैसे गया? विपक्ष के इस सवाल का जवाब देते हुए एकनाथ शिंदे ने कहा, ‘हमारी सरकार आए अभी दो महीने ही हुए हैं। मुख्यमंत्री बनने के बाद मैंने वेदांता के मालिक अनिल अग्रवाल और फॉक्सकॉन के साथ बैठक की, इस बैठक में उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी मौजूद रहे। इस बैठक में सरकार की ओर से जो भी रियायतें इस बैठक में संभव होंगी, मैंने उनसे कहा कि वह सब दी जाएगी। पुणे में तालेगांव के पास 1100 एकड़ जमीन के साथ 30 से 35 हजार करोड़ की रियायतें और अन्य चीजों की भी पेशकश राज्य सरकार द्वारा किया गया है। इसका मतलब है कि हम एक सरकार के रूप में कमजोर नहीं हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

पुलिस महानगर न्यूज़पेपर के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न० 7400225100,8976727100
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: