नोएडा के ट्विन टॉवर जैसी कार्यवाही मुंबई में भी होनी चाहिए

नोएडा के ट्विन टॉवर जैसी कार्यवाही मुंबई में भी होनी चाहिए

भाजपा नेता किरीट सोमैया की मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री से पत्र लिखकर मांग। प्रताप सरनाईक के खिलाफ आरोपों पर साधी चुप्पी

योगेश पाण्डेय – संवाददाता 

मुंबई – उत्तर प्रदेश के नोएडा में अनधिकृत ट्विन टावरों पर कार्रवाई के बाद भाजपा नेता किरीट सोमैया ने मुंबई में अनधिकृत टावरों पर कार्यवाही का मुद्दा उठाया है। किरीट सोमैया ने राज्य के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को पत्र लिखकर इन अनधिकृत इमारतों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। मुंबई में आयोजित एक पत्रकार परिषद में बोलते हुए उन्होंने बिल्डरों और महानगर पालिका के भ्रष्ट अधिकारियों का विशेष ऑडिट कराने की मांग की है।

किरीट सोमैया ने कहा कि मुंबई में सैकड़ों टावर ऐसे हैं जिन्हें ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट (ओसी) नहीं मिला है। मध्यम वर्ग के लोग यहां 5 से 10 साल से रह रहे हैं। बिल्डर ने इस जगह पर अवैध रूप से अतिरिक्त फ्लोर बनवाए हैं। मेरी जानकारी के अनुसार 25 हजार से अधिक फ्लैट धारक ओसी नहीं मिलने से परेशान हैं। उन बिल्डरों और महानगर पालिका के भ्रष्ट अधिकारियों का विशेष ऑडिट कराने की मांग की जा रही है।

ऐसे अनधिकृत टावरों, मुंबई में फ्लोर और एमआरआर के विशेष ऑडिट का आदेश दें। भ्रष्ट महानगर पालिका अधिकारियों, बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई करें। मैंने शिंदे और फडणवीस से 25 हजार से अधिक मध्यमवर्गीय फ्लैट मालिकों की सुरक्षा की मांग की है।

इस मौके पर किरीट सोमैया से प्रताप सरनाईक के विहंग अपार्टमेंट को लेकर लगाए गए आरोप के बारे में भी पूछा गया, इस पर सोमैया ने कहा मैं किसी बिल्डर का नाम नहीं लेना चाहता। लेकिन यह सच है कि लोग 2010 में रहने चले गए, लेकिन 2022 तक उन्हें ओसी नहीं मिला। मेरे द्वारा मुद्दा उठाए जाने के बाद जुर्माना लगाया गया था, जिसे पिछली सरकार ने माफ कर दिया था। अब विहंग गार्डन के लोगों को ओसी मिल गई है।

उन्होंने आगे कहा कि एकनाथ शिंदे और फडणवीस से मेरी अपील है कि मध्यम वर्ग के फ्लैट मालिकों की रक्षा की जानी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि कुछ बिल्डरों, फ्लैट मालिकों के साथ माफी जैसा कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए।

एक बार फिर मैं एसआरए प्राधिकरण के पास गया और किशोरी पेडनेकर के बेनामी भूखंडों पर कब्जा करने के संबंध में कार्रवाई की मांग की। इस सप्ताह फिर से पालन करेंगे। उन्होंने वर्ली में आधा दर्जन बेनामी भूखंड जब्त किए।

उन्होंने आगे कहा पिछले गणेशोत्सव के दौरान मुझे विसर्जन के रास्ते में रोक दिया गया था। कोल्हापुर में एक आदेश दिया गया था कि कोई महालक्ष्मी के दर्शन नहीं कर सकता है। इसे यहां 19 सितंबर को रोका गया था। तत्कालीन गृह मंत्री और मुख्यमंत्री द्वारा आदेश दिया गया था कि सीएसएमटी स्टेशन से ट्रेन को रोका नहीं जाना चाहिए। क्योंकि मैं हसन मुश्रीफ के घोटाले का पर्दाफाश करने जा रहा था। जब मैं अदालत गया, तो पुलिस प्राधिकरण ने फैसला सुनाया कि किरीट सोमैया का सरकार का अवरोध अवैध था। मुंबई पुलिस ने सार्वजनिक रूप से मुझसे माफी मांगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

पुलिस महानगर न्यूज़पेपर के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न० 7400225100,8976727100
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: