ब्रिटेन की बोट में दुबई के हथियार 

ब्रिटेन की बोट में दुबई के हथियार 

महाराष्ट्र के समुद्री तट पर संदिग्ध बोट से मचा हड़कंप, 3 एके 47 और गोलियां बरामद 

राज्य में हाई अलर्ट जारी, एनआईऐ और एटीएस की टीमें जांच में जुटी

योगेश पाण्डेय – संवाददाता 

मुंबई – वर्ष 1993 का सिलसिलेवार बम धमाका हो या वर्ष 2008 में पाकिस्तान से आए आमिर अजमल कसाब सभी ने समुद्री रास्तों का उपयोग कर देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को दहलाया है। गुरुवार सुबह भी महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के हरिहरेश्वर तट पर समुद्र में एक संदिग्ध बोट मिली है। बोट में तीन AK-47 और बुलेट्स मिले हैं। बोट गुरुवार सुबह करीब 8 बजे के आसपास एक स्थानीय मछुआरे ने देखी और तत्काल पुलिस को सूचित किया।

घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने संदिग्ध बोट की जांच के बाद बोट को रस्सी के सहारे किनारे खींचा और उसे जब्त कर लिया। बोट पर एक काले रंग का बड़ा सा बॉक्स था, जिसमें तीन AK-47 रायफल और गोलियां मिली हैं। गोलियां ब्लू और रेड कलर के छोटे-छोटे बॉक्स में रखी गइ थीं। पुलिस के मुताबिक, मुंबई से यह इलाका करीब 190 किलोमीटर दूर है।

पुलिस ने बताया कि जिस बॉक्स में हथियार रखे हुए थे, उस पर अंग्रेजी में नेप्च्यून मरीटाइम सिक्योरिटी लिखा हुआ है। यह कंपनी ब्रिटेन की बताई जा रही है। पुलिस कंपनी के अधिकारियों से संपर्क कर इसके बारे में अधिक जानकारी जुटाने का प्रयास कर रही है।

कोस्ट गार्ड के कमांडर जनरल परमेश शिवमणी ने कहा कि 26 जून को इस बोट से हमें कॉल किया गया था। तब वो मुश्किल में थे और उन्होंने मदद मांगी थी। हमारी टीम ने ओमान की खाड़ी में इस बोट पर मौजूद चार लोगों को बचाया था। यह ब्रिटेन जा रही थी और इस पर ब्रिटेन का झंडा भी लगा था। बाद में यह बहकर हरिहरेश्वर चली गई। इस पर तीन AK-47 के अलावा कुछ छोटे हथियार भी थे। बोट के मालिक से बातचीत की गई है। दुबई की एक सिक्योरिटी एजेंसी ने भी हमें फोन पर बताया कि इस सीरीज के हथियार उनके हैं और ये गायब हैं। इस एजेंसी ने साफ कर दिया है कि यह हथियार बोट पर मौजूद क्रू मेंबर्स की हिफाजत के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।

रायगढ़ के तट पर पहले भी संदिग्ध गतिविधियां होती रहीं हैं। कहा जाता है कि 1993 ब्लास्ट से पहले अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम के निर्देश पर यहीं के शेखाडी तट पर ब्लास्ट में इस्तेमाल किए गए RDX उतारे गए थे। 26/11 में कसाब समेत 10 आतंकी भी रायगढ़ के समुद्र को क्रॉस करके मुंबई पहुंचे थे। यह भी थ्योरी सामने आई थी कि कसाब और उसकी टीम ने यहीं अपनी एक नाव बदली थी।

इसके अलावा भारदखोल में एक लाइफबोट भी मिली है। यह हरिहरेश्वर तट से करीब 32 किलोमीटर दूर है। दोनों इलाके रायगढ़ जिले के श्रीवर्धन तालुका के अंदर आते हैं। ATS चीफ विनीत अग्रवाल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ये आतंकी साजिश भी हो सकती है। नाव दूसरे देश का है या नहीं और इसका उद्देश्य क्या था, हम इसकी भी जांच करेंगे।

पुलिस ने इस घटना के पीछे आतंकी साजिश से इनकार नहीं किया है। स्थानीय लोगों से पूछताछ की जा रही है। इसके साथ ही पूरे रायगढ़ जिले को हाई अलर्ट पर रखा गया है। साथ ही समुद्र किनारे के सभी इलाकों की की नाकेबंदी कर दी गई है। मौके पर एंटी टेरर स्क्वॉड भी पहुंचकर किसी आतंकी साजिश के एंगल से इसकी जांच कर रही है।

राज्य के उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने विधानसभा में बताया की आज स्थानीय लोगों को श्रीवर्धन और हरिहरेश्वर के समुद्र तट पर 16 मीटर लंबी एक नाव मिली। इसकी जानकारी उन्होंने स्थानीय पुलिस को दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर नाव का निरीक्षण किया तो नाव में दस्तावेज के साथ 3 एके-47 राइफल और कारतूस बरामद हुए। इसके तुरंत बाद अलर्ट जारी किया गया। साथ ही यह जानकारी भारतीय तटरक्षक बल और अन्य एजेंसियों को भी दी गई। इस बीच उपमुख्यमंत्री और गृह मंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने इस संबंध में विधानसभा में जानकारी देते हुए कहा है कि यह नाव एक ऑस्ट्रेलियाई नागरिक की है और नाव का इंजन खराब हो गया जिसके चलते यह रायगढ़ के समुद्र तट पर तैर कर पहुंच गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

पुलिस महानगर न्यूज़पेपर के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न० 7400225100,8976727100
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: