25 हजार का इनामी बदमाश भाजपा नेता गिरफ्तार

25 हजार का इनामी बदमाश भाजपा नेता गिरफ्तार

महिला से अभद्रता मामले में पुलिस से फरार चाल रहा था श्रीकांत त्यागी, पहले से 6 मुकदमें दर्ज फिर भी भाजपा सरकार से 9 सुरक्षा कर्मी

योगेश पाण्डेय – संवाददाता 

नोएडा – नोएडा की ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी में महिला से अभद्रता करने वाले भाजपा नेता श्रीकांत त्यागी को उत्तर प्रदेश पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया है। उस पर नोएडा पुलिस ने 25 हजार का इनाम रखा था।

श्रीकांत त्यागी और उसके 4 साथियों को पुलिस ने मेरठ से गिरफ्तार किया है। पुलिस को श्रीकांत की लोकेशन उसके पत्नी के फोन से मिली। गिरफ्तारी की अभी आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। उक्त मामले में नोएडा के पुलिस आयुक्त आलोक सिंह शाम 4 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे।

भाजपा सांसद महेश शर्मा ने कहा कि हमें मुख्यमंत्री पर पूरा विश्वास था। जिस तरह से 24-36 घंटे में एक्शन हुआ है, उससे कानून व्यवस्था पर आम जानता का विश्वास बढ़ा है।

सूत्रों के मुताबिक, ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी से फरार होने के बाद श्रीकांत त्यागी ने मेरठ में अपने रिश्तेदार के यहां शरण ली थी। सोमवार रात में श्रीकांत ने पत्नी अनु त्यागी को कॉल किया था। पुलिस को यहीं से बड़ी लीड मिली। पुलिस ने मंगलवार सुबह अनु त्यागी को दोबारा हिरासत में लिया और पूछताछ की। उसके मोबाइल की छानबीन की गई। उसी इनपुट के आधार पर नोएडा पुलिस श्रीकांत त्यागी तक पहुंच गई।

श्रीकांत की गिरफ्तारी पर उसकी बहन ने कहा, हम गिरफ्तारी से खुश हैं। घर का बच्चा सुरक्षित है। पिछले चार दिनों से वे फरार चल रहे थे। मन में कई आशंकाएं चल रही थीं कि कहीं कुछ हो न गया हो।

श्रीकांत त्यागी का इतिहास रहा है जिसकी सरकार, उसका श्रीकांत, बसपा, सपा और फिर भाजपा। श्रीकांत त्यागी ने तीनों सरकारों में तीनों ही पार्टियों का सफर तय किया। 2017 में उत्तर प्रदेश में योगी सरकार बनी और 2018 में श्रीकांत को भाजपा किसान मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारणी में एक नहीं, दो-दो महत्वपूर्ण पद दिए गए। रसूख देखिए, श्रीकांत और उसकी पत्नी को एक-दो नहीं, बल्कि सात सरकारी गनर गाजियाबाद पुलिस ने दिए थे। शासन स्तर पर कराई जा रही जांच में यह सामने आया है। गृह विभाग ने श्रीकांत त्यागी को सुरक्षा देने पर गाजियाबाद पुलिस से रिपोर्ट मांगी है।

श्रीकांत त्यागी पर कुल 6 मुकदमे दर्ज हैं। सूत्रों के अनुसार, गाजियाबाद पुलिस की जनपदीय सुरक्षा समिति ने 8 अक्टूबर 2018 को पहला गनर श्रीकांत त्यागी को दिया। ठीक इसी दिन 9 जुलाई 2018 को गाजियाबाद पुलिस ने दो अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी दिए। एक दिन में श्रीकांत को तीन-तीन गनर मिल गए। 31 अगस्त 2019 को गाजियाबाद पुलिस ने एक और सुरक्षाकर्मी श्रीकांत को दिया यानी टोटल 4 गनर।

त्यागी की पत्नी अनु को गाजियाबाद पुलिस ने 25 जनवरी 2019 के शासनादेश का हवाला देते हुए दो सुरक्षाकर्मी दिए। फिर 13 अप्रैल को एक अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी दिया गया। यानी श्रीकांत के पास 4 और पत्नी अनु त्यागी के पास 3 गनर थे।

26 फरवरी 2020 को श्रीकांत और अनु से सातों गनर वापस ले लिए गए। पति-पत्नी को गनर दिए जाने के वक्त गाजियाबाद में जिलाधिकारी ऋतु माहेश्वरी और एसएसपी वैभव कृष्ण थे। रितु माहेश्वरी फिलहाल नोएडा अथॉरिटी में सीईओ पद पर तैनात हैं और वैभव कृष्ण पुलिस मुख्यालय लखनऊ में एसपी सिक्योरिटी के पड़ पर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

पुलिस महानगर न्यूज़पेपर के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न० 7400225100,8976727100
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: