गृहमंत्री देवेन्द्र फडणवीस का बयान, ड्राइवर की गलती के चलते विनायकराव मेटे की मौत

गृहमंत्री देवेन्द्र फडणवीस का बयान, ड्राइवर की गलती के चलते विनायकराव मेटे की मौत

मुंबई पुणे एक्सप्रेस वे पर इंटेलिजेंट ट्रैफिक सिस्टम स्थापित करने का किया वादा

योगेश पाण्डेय – संवाददाता 

मुंबई – राज्य के उपमुख्यमंत्री और गृहमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने सोमवार को सदन में शिव संग्राम संगठन प्रमुख और पूर्व विधायक विनायकराव मेटे की आकस्मिक मौत पर टिप्पणी की। इस मौके पर देवेंद्र फडणवीस ने सदन को विस्तार से जानकारी दी कि आखिर विनायकराव मेटे का एक्सीडेंट कैसे हुआ। फडणवीस का बयान समग्र भावना को व्यक्त करता प्रतीत होता है कि विनायकराव मेटे की कार के चालक एकनाथ कदम की एक गलती ने विनायकराव मेटे की जान ले ली। गृह मंत्री देवेंद्र फडणवीस द्वारा अब चालक की भूमिका पर सवाल उठाने के साथ ही सभी की निगाहें इस ओर मुड़ गई हैं कि यह जांच किस दिशा में जाएगी।

फडणवीस ने कहा कि अगर हमारे पास डिजिटल लोकेशन सिस्टम होता तो पुलिस विनायकराव मेटे के हादसे के बाद समय पर पहुंच पाती। लेकिन चालक द्वारा दी गई गलत सूचना से भ्रम की स्थिति पैदा हो गई और पुलिस काफी देर बाद दुर्घटनास्थल पर पहुंची। गृह मंत्री देवेंद्र फडणवीस ने खेद व्यक्त करते हुए कहा कि तब तक विनायकराव मेटे की मृत्यु हो चुकी थी। वह सोमवार को विधानसभा में बोल रहे थे।

इस मौके पर देवेंद्र फडणवीस ने मुंबई-पुणे एक्सप्रेस-वे पर पुरानी व्यवस्था की कड़ी आलोचना की। विनायकराव मेटे की दुर्घटना ने एक बात साबित कर दी है कि हमें अब व्यवस्था बदलनी होगी। मेटे के ड्राइवर को 112 पर कॉल करके सीधे अपने लोकेशन पर जाना चाहिए था। अगर ड्राइवर ने गलत पता दिया होता तो भी मोबाइल टावर से डिजिटल लोकेशन का पता चल जाता जिससे रायगढ़ पुलिस समय पर पहुंच सकती थी। इस संबंध में कोई देरी हुई या गलती हुई, इसकी जांच की जा रही है। कुछ लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। लेकिन हम दिवंगत को वापस नहीं ला सकते। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि इसलिए, राज्य सरकार ने मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे पर यातायात के संबंध में कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं।

तदनुसार, अब पुलिस स्टेशन को मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे पर डिजिटल लोकेशन की जानकारी होनी चाहिए। ताकि उस इलाके की पुलिस को सही समय पर सूचना मिल सके। इसके अलावा, यह भी देखा गया है कि मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे पर अक्सर बड़े ट्रेलरों और वाहनों को लेन से बाहर निकाल दिया जाता है। इस संबंध में हमने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से चर्चा की है और फैसला लिया है कि पूरे मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे पर इंटेलिजेंट ट्रैफिक सिस्टम (आईटीएस) स्थापित किया जाएगा। ताकि हम सैटेलाइट और ड्रोन के जरिए इस रूट पर नजर रख सकें। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि अगर ट्रेलर लेन से निकलेगा तो इसकी जानकारी मिल जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

पुलिस महानगर न्यूज़पेपर के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न० 7400225100,8976727100
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: